About Me

Please visit our Download Section.
Please visit our Download Section.

Navdha Bhakti | माता शबरी को भगवान् राम ने दिए भक्ति के 9 सूत्र

भगवान् राम ने माता शबरी को दिए भक्ति के 9 सूत्र 


श्री रामजी , शबरीजी के आश्रम में पधारे। शबरीजी ने श्री रामचंद्रजी को घर में आए देखा, तब मुनि मतंग जी के वचनों को याद करके उनका मन प्रसन्न हो गया। आज मेरे गुरुदेव का वचन पूरा हो गया। उन्होंने कहा था की श्री  राम आएंगे । और प्रभु आज आप आ गए। निष्ठा हो तो शबरी जैसी। बस गुरु ने एक बार बोल दिया की राम आएंगे। और विश्वास हो गया। हमे भगवान इसलिए नही मिलते क्योकि हमे अपने गुरु के वचनो पर भरोसा ही नही होता। 

जब शबरी ने श्री राम को देखा तो आँखों से आंसू बहने लगे और चरणो से लिपट गई है।मुह से कुछ बोल भी नही पा रही है चरणो में शीश नवा रही है। फिर सबरी ने दोनों भाइयो राम, लक्ष्मण जी के चरण धोये । माता शबरी का मैं हर्ष-उल्लास से भरा हुआ था।  

कुटिया के अंदर गई है और बेर लाई । वैसे रामचरितमानस में कंद-मूल लिखा हुआ है। लेकिन संतो ने कहा की सबरी ने तो रामजी को बेर ही खिलाये। सबरी एक बेर उठती है उसे चखती है। बेर मीठा निकलता है तो रामजी को देती है अगर बेर खट्टा होता है तो फेक देती है।

भगवन राम एकशब्द भी नही बोले की मैया क्या कर रही है। तू झूठे बेर खिला रही है। भगवान प्रेम में डूबे हुए है। बिना कुछ बोले बेर खा रहे है। माँ एक टक राम जी को निहार रही है।

भगवान ने बड़े प्रेम से बेर खाए और बार बार प्रशंसा की है। (प्रेम सहित प्रभु खाए बारंबार बखानि)॥उसके बाद माता शबरी ने हाथ जोड़ कर खड़ी हो गई। माता सबरी बोली की प्रभु में किस प्रकार आपकी स्तुति करू?

मैं नीच जाति की और अत्यंत मूढ़ बुद्धि हूँ।जो अधम से भी अधम हैं, स्त्रियाँ उनमें भी अत्यंत अधम हैं, और उनमें भी हे पाप नाशन! मैं मंदबुद्धि हूँ।भगवन राम, माँ की ये बात सुन नहीं पाये और बीच में ही रोक दिया-भगवन कहते है माँ मैं केवल एक भक्ति को जानता हुँ |

जाति पाँति कुल धर्म बड़ाई। धन बल परिजन गुन चतुराई॥ 
भगति हीन नर सोहइ कैसा। बिनु जल बारिद देखिअ जैसा॥ 

भावार्थ:- जाति, पाँति, कुल, धर्म, बड़ाई, धन, बल, कुटुम्ब, गुण और चतुरता- इन सबके होने पर भी यदि इंसान भक्ति न करे तो वह ऐसा लगता है , जैसे जलहीन बादल (शोभाहीन) दिखाई पड़ता है।

माँ में तुम्हे अपनी 9 प्रकार की भक्ति के बारे में बताता हु। जिसे भक्ति कहते है नवधा भक्ति ।

नवधा भगति कहउँ तोहि पाहीं। सावधान सुनु धरु मन माहीं। 
प्रथम भगति संतन्ह कर संगा। दूसरि रति मम कथा प्रसंगा॥ 

भावार्थ:- मैं तुझसे अब अपनी नवधा भक्ति कहता हूँ। तुम सावधान होकर सुनो और मन में धारण कर। पहली भक्ति है संतों का सत्संग। दूसरी भक्ति है मेरे कथा प्रसंग में प्रेम॥

गुर पद पंकज सेवा तीसरि भगति अमान। 
चौथि भगति मम गुन गन करइ कपट तजि गान॥ 

भावार्थ:- तीसरी भक्ति है अभिमानरहित होकर गुरु के चरण कमलों की सेवा करना और चौथी भक्ति यह है कि कपट छोड़कर मेरे गुण समूहों का गान करें और उसका अनुसरण करें ॥

मंत्र जाप मम दृढ़ बिस्वासा। पंचम भजन सो बेद प्रकासा॥ 
छठ दम सील बिरति बहु करमा। निरत निरंतर सज्जन धरमा॥॥

भावार्थ:- मेरे (राम) मंत्र का जाप और मुझमें दृढ़ विश्वास- यह पाँचवीं भक्ति है, जो वेदों में प्रसिद्ध है। छठी भक्ति है इंद्रियों का निग्रह, शील (अच्छा स्वभाव या चरित्र), बहुत कार्यों से वैराग्य और निरंतर संत पुरुषों के धर्म (आचरण) में लगे रहना॥
सातवँ सम मोहि मय जग देखा। मोतें संत अधिक करि लेखा॥ 
आठवँ जथालाभ संतोषा। सपनेहुँ नहिं देखइ परदोषा॥ 

भावार्थ:- सातवीं भक्ति है जगत्‌ भर को समभाव से मुझमें (राममय) देखना और संतों को मुझसे भी अधिक मानना और उनकी सेवा करना । आठवीं भक्ति है जो कुछ मिल जाए, उसी में संतोष करना और स्वप्न में भी पराए दोषों को न देखना॥2॥

नवम सरल सब सन छलहीना। मम भरोस हियँ हरष न दीना॥ 
नव महुँ एकउ जिन्ह कें होई। नारि पुरुष सचराचर कोई॥ 

भावार्थ:- नवीं भक्ति है सरलता और सबके साथ कपटरहित बर्ताव करना, हृदय में मेरा भरोसा रखना और किसी भी अवस्था में हर्ष और दैन्य (विषाद) का न होना। इन नवों भक्ति में से जिनमें एक भी होती है, वह स्त्री-पुरुष, संपूर्ण हो जाएंगे

भगवान कहते है की इन भक्ति मार्गो में से कोई भी एक मार्ग पकड़ लो और वह मार्ग तुमको मुझसे मिला देगा। ज्यादा किसी विधि विधान में पड़ने की जरुरत नही है।

माता शबरी भक्ति के 9 सूत्र सुनकर अति प्र्शन्न हो गयी और प्रभु को नमस्कार किया | 

शबरी कौन थी ?

भगवान विष्णु के सातवें अवतार श्री राम, दो सबसे बड़े संस्कृत महाकाव्य, रामायण में से एक के नायक हैं। श्री राम के पिता दशरथ, भरत के महान योद्धाओं और राजाओं में से एक थे। अयोध्या दशरथ की राजधानी थी। दशरथ की 3 पत्नियाँ थीं, कौशल्या, सुमित्रा और कैकेयी। लेकिन उनकी पत्नी में से कोई भी दशरथ को एक वारिस के साथ प्रदान नहीं कर सकता था, जब तक कि उनकी पहली पत्नी ने श्री राम को जन्म नहीं दिया। बाद में अन्य दो पत्नियों ने भी अधिक पुत्रों को जन्म दिया। लेकिन श्री राम दशरथ के सबसे पसंदीदा पुत्र थे।

बहुत समय पहले, जब दशरथ एक युद्ध में लड़े थे, जिसमें वह कैकयी, अपनी पसंदीदा पत्नी को अपने साथ ले गए थे। युद्ध और युद्ध में दशरथ बुरी तरह घायल हो गए। कैकेयी ने दशरथ का जीवन बचाया, जिसके लिए दशरथ ने जो भी दो इच्छाएं पूछीं, उन्हें पूरा करने के लिए वे राजी हो गए।  

जब दशरथ ने राम को अपने सिंहासन को सौंपने का फैसला किया, तो कैकेयी ने कौशल्या से जलन बढ़ाई, जो रानी बनने जा रही थी और उसने दो इच्छाओं का उपयोग करने का फैसला किया था जो उसे दी गई थीं। कैकेयी ने दशरथ से अपने पुत्र भरत को सिंहासन देने के लिए कहा, आगे उन्होंने मांग की कि राम को 14 साल के लिए वनवास पर जाना चाहिए। लक्ष्मण, राम के छोटे भाई और सीता, उनकी पत्नी उनके साथ थे। लेकिन चीजें वैसी नहीं चलीं जैसी कैकेयी ने कल्पना की थीं। दशरथ की कुछ दिनों के बाद मृत्यु हो गई और भरत ने सिंहासन से यह कहते हुए इनकार कर दिया कि यह उनके बड़े भाई राम का है। उन्होंने कैकेयी को अपने पिता की मृत्यु के लिए भी दोषी ठहराया और अपनी माँ को फिर कभी नहीं बुलाने का फैसला किया।

एक शिकारी की युवा बेटी शबरी, जो निषाद आदिवासी समुदाय से थी, एक दयालु महिला थी। शबरी के पिता ने उसकी शादी कराने की योजना बनाई और उसकी शादी के खाने की दावत के लिए हजारों बकरियों और भेड़ों का शिकार किया। इतने जानवरों को मारने की सोच से शबरी तबाह हो गई थी। इसलिए वह इससे बचने के लिए जंगल में भाग गई। उन्होंने ब्रह्म ज्ञान (परम ज्ञान) हासिल करने के लिए लंबे समय तक गुरु की खोज की। उसे सभी गुरुओं द्वारा अस्वीकार कर दिया गया था क्योंकि वह एक निचली जाति, निषादों की थी। उन्होंने सोचा कि वह उनकी शिक्षाओं के योग्य नहीं है। अंत में, वह ऋषि मतंगा की धर्मपत्नी के पास पहुंची, जो सच्ची बुद्धि प्राप्त करने में उसकी अशिष्ट रुचियों से प्रभावित थी। उन्होंने अपने शिष्य और छात्र के रूप में अन्य सभी योगियों और संतों के बावजूद उन्हें एक छात्र के रूप में एक बहिष्कार में लेने के लिए नीचे देखा।

ऋषि मतंगा ने शबरी को गोद में लिया और उसे साफ करने, देखभाल करने और देखभाल करने के लिए कहा। "यह आपके लिए अच्छा होगा", उन्होंने कहा। शबरी ऋषि के साथ अपने धर्मोपदेश में रहती थी, साफ-सफाई करती थी और झोपड़ी और साधु की देखभाल करती थी। उसने गायों की देखभाल भी की। दूसरे ऋषियों ने ऋषि माटुंगा को एक अशुद्ध के रूप में देखा। लेकिन ऋषि ने परवाह नहीं की, क्योंकि वह अच्छी तरह से जानता था कि देवता उन लोगों के खिलाफ नहीं हैं जो जरूरतमंदों की मदद करते हैं, चाहे उनकी जाति कोई भी हो।
Navdha Bhakti
दुर्भाग्य से ऋषि माटुंगा ने फैसला किया कि उनके शरीर छोड़ने का समय आ गया है। उसने शबरी से पूछा कि क्या वह चाहती है कि वह उसके साथ आखिरी बार कुछ भी करे जिससे वह उसे अपने साथ ले जाने के लिए कहे, जिसमें वह जा रही थी। शबरी बस अपने प्रिय गुरु के बिना रहने की कल्पना नहीं कर सकती थी। लेकिन मतंग ने मना कर दिया। उसने उससे कहा कि उसे उस दिन तक इंतजार करना है जब महान भगवान श्री राम उससे मिलने आते हैं। वह जानता था कि श्री राम शबरी से मिलने आएंगे। "तब आप मुझसे जुड़ सकते हैं", उन्होंने कहा। शबरी ने अपने गुरु की सलाह पर सहमति जताई और जब अलम की यात्रा के लिए श्री राम की सेवा करने के लिए अपने जीवन को रहने और समर्पित करने का वादा किया।

Post a Comment

0 Comments