About Me

Please visit our Download Section.
Please visit our Download Section.

केले का पेड़ का धार्मिक महत्व | केले के पत्तो की पूजा क्यों की जाती है

केले का पेड़ और उसका धार्मिक महत्व 

केले का पेड़ न केवल पवित्र है, बल्कि इसके प्रत्येक भाग बेहद उपयोगी हैं। जबकि इसके तने का उपयोग स्वागत द्वार के रूप में किया जाता है, इसकी पत्तियों का उपयोग भोजन परोसने के लिए किया जाता है। प्राचीन शास्त्रों के अनुसार, केले के पेड़ को देवगुरु बृहस्पति या ग्रह बृहस्पति के रूप में माना जाता है। केले के पेड़ को बहुत पवित्र माना जाता है क्योंकि यह भगवान विष्णु का प्रतीक है। यह स्वस्थ और समृद्ध जीवन के लिए भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी को अर्पित किया गया फल है। 

बहुत से लोग लाभ पाने के लिए गुरुवार के दिन उपवास करने में विश्वास करते हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार, अगर किसी व्यक्ति के पास मांगलिक दोष है, तो उसे पहले केले के पेड़ से शादी करनी चाहिए, जिसके बाद वह व्यक्ति किसी गैर-मांगलिक दोष के साथ किसी से भी शादी कर सकता है।

पश्चिमी घाट में, 'केले का पेड़' देवी नंदा देवी के रूप में माना जाता है।  महाभारत में, कदलीवन या कुबेर पुष्कर्णी के किनारे स्थित केले के बगीचे में वानर भगवान हनुमान का निवास था। केले के पौधे को हिंदू देवी 'काली' के नौ रूप में पवित्र माना जाता है। 

केले का पौधे का हर हिस्सा हिंदू धर्म में पवित्र माना जाता है। मुख्य द्वार के दोनों ओर दो पौधों को सामाजिक और धार्मिक समारोहों में सजावट के रूप में उपयोग किया जाता है। दुर्गा पूजा के दौरान एक युवा पौधे को 'नवपत्रिका' के प्रतीक के रूप में पूजा जाता है। पत्तियों का उपयोग धार्मिक और सामाजिक समारोहों के दौरान किया जाता है। लक्ष्मी पूजा के अवसर पर केले के तने से बनी एक नाव और धान के शीश से सजाकर धन और सुख की देवी की पूजा की जाती है। कुछ सुपारी के साथ केले का एक गुच्छा सभी धार्मिक कार्यों में जरूरी है।

महिलाएं विभिन्न अवसरों पर पौधे की पूजा करती हैं। यह सत्यनारायण पूजा के दौरान प्रसाद का मुख्य घटक है। फल हमेशा देवताओं को चढ़ाए जाते हैं। तमिलनाडु में 'कथली' नाम का पौधा पवित्र माना जाता है और देवताओं को चढ़ाया जाता है। बंगाल के हिंदुओं द्वारा दिवंगत आत्मा को रिझाने के लिए पका हुआ पौधा, बिना पका हुआ चावल और तिल (तिल) का मिश्रण दिया जाता है।  

Kele ka faayeda

केला भी कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करने वाला है। यह न केवल सिरदर्द को ठीक कर सकता है, बल्कि इसका उपयोग सीलिएक रोग से पीड़ित बच्चों के इलाज के लिए भी किया जाता है, ताकि गेहूं, राई, जई, और जौ जैसे अनाज से असहिष्णुता को ठीक किया जा सके। केले की त्वचा को अंदर से ठंढे स्थान पर लगाने से तुरंत आराम मिलता है। यह कुपोषित बच्चों के लिए सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक माना जाता है। यह एक एंटिफंगल और एंटीबायोटिक दवा के रूप में भी उपयोग किया जाता है।

Post a Comment

0 Comments