About Me

Please visit our Download Section.
Please visit our Download Section.

Mahiravan or Hanuman ji ki Katha | ताबीज और गहनों पर हनुमान जी के चित्र क्यों लगाए जाते हैं ?

            Mahiravan or Haniman ji ki Kataha

कभी आपने सोचा है की माला या ताबीज और गहनों पर हनुमान जी के चित्र क्यों लगाए जाते हैं?

क्या आप जानते है की क्यों हनुमान जी को कभी-कभी मंदिरों में द्वारपाल के स्थान में देखा जाता है ?

आइये इस पोस्ट के माध्यम से आज हम कुछ अनसुनी हनुमान जी कथा सुनते है जो  रामायण से सम्बंधित है। इस कथा को आप महिरावणचरितम (एक पुरानी और दुर्लभ पुस्तक) में पढ़ सकते है। 

Mahiravan and Hanuman ji

आइये जानते है इस कथा के बारे में। 

महिरावण:
महिरावण:

जैसे-जैसे रावण के साथ युद्ध आगे बढ़ा, राक्षस ने अपने सभी भाइयों और पुत्रों को खो दिया और यह स्पष्ट हो गया कि वह हार की ओर अग्रसर था। अंत में, उसने अपने एकमात्र जीवित पुत्र महिरावण को भेजा। महिरावण एक शक्तिशाली जादूगर था जिसने पाताल लोक पर शासन किया था।महिरावण देवी काली का बहुत बड़ा भक्त था,जिनसे उसे महत्वपूर्ण गुप्त शक्तियां प्राप्त हुई थी। शुरू में महिरावण राम जी  के खिलाफ लड़ाई में शामिल नहीं होना चाहता था क्योंकि उसे लगा कि राम का कारण न्यायसंगत है। लेकिन रावण ने उसे अपने बातों की माया से समझाया और बोला 

 "जब आप काली माता को श्री राम और लक्ष्मण जैसे दो सुंदर और वीर युवकों के सिर चढ़ाएंगे, तो देवी काली आपको जो शक्तियां प्रदान करेंगी, उनके बारे में सोचें। माताआपको कैसी कैसी  शक्तियां दे सकती हैं वो मुझे बताने की जरुरत नहीं ,यह सुनकर महिरावण सहमत हुआ। 

 

 

महान जादूगर महिरावण राम और उनके भाई लक्ष्मण दोनों को सोते समय अपहरण करने में कामयाब रहा । महिरावण उन्हें अपहरण कर  एक अँधेरी सुरंग जो पृथ्वी की गहराई तक फैली हुई थी वहां ले गया। महिरावण का राज्य पाताल लोक में बसा हुआ था । हनुमान जी ने जब अपने स्वामी को अपने स्थान पर नही पाया तो उन्होंने ने तुरंत सुरंग में गोता लगाया और महिरावण के भूमिगत राज्य पाताल के लिए अपना रास्ता बना लिया। वहाँ हनुमान जी ने दोनो  भाइयों को एक खम्भे से बंधा हुआ पाया, उनके शरीर पर सरसों के तेल से अभिषेक किया गया था और उनके शरीर गेंदे के फूलों से लदी हुई , बलि के लिए तैयार थी । उनके पास महिरावण बलि के लिए अपने तलवार  को तेज कर रहा था और देवी का आह्वान करने के लिए भजन गा रहा था।हनुमान जी उसके नजरो से बचने के लिए मधुमक्खी का रूप धारण कर लिया। 

 



हनुमान मधुमक्खी का रूप लेते हुए राम के कान में फुसफुसाए, "जब महिरावण आपको अपनी गर्दन बलि के सांचे  पर रखने के लिए कहेगा , तो उसे आप बताएं कि शाही वंश के होने के कारण आपने अपना सिर झुकाना कभी नहीं सीखा है। 


महिरावण बलि लेने के लिए तैयार हो गया और श्री राम और लक्ष्मण जी को अपना सर सांचे पर रखे के लिए कहा।राम जी ने महिरावण से कहा कि शाही वंश के होने के कारण आपने अपना सिर झुकाना कभी नहीं सीखा है, तो कृपया कर आप बतायें की सांचे पर सिर कैसे झुकाना है । महिरावण जाल में फंस गया। उसने कहा देखो सांचे पर सिर कैसे रखते है ,जैसे ही उसने निर्धारित तरीके से उसने अपना सिर झुकाया , हनुमान जी अपने वास्तविक रूप में वापस आ गए और तलवार उठाकर बिना देर किये हुए उन्होंने महिरावण का सिर धड़ से अलग कर दिया।फिर उन्होने श्रीराम और लक्ष्मण जी मुक्त कराया। मुक्त करने के बाद हनुमान जी ने देवी काली को महिरावण नमक दानव की बलि दे दी। 


बलि से प्रभावित होकर, काली जी ने हनुमान जी को अपना द्वारपाल बनाया। इसीलिए आप सभी बहुत सारे काली मंदिरो में हनुमान जी प्रतिमा को रखवाली करते देखा होगा। इसका असली कारण यही था देवी के कई मंदिरों में एक बंदर उनके द्वार की रखवाली करते देखा जाता है। 


इसके अलावा, हनुमान जी का नाम और उनका जाप ,जादू टोना,भूत प्रेत के खिलाफ सबसे पहले किया जाता है। भूत पिसाच निकट नहिं आवै। महाबीर जब नाम सुनावै।। 


यही कारन है की लोग की उनके चित्रित वाले माला या ताबीज पहनना चाहते है।किसी भी मुसीबत या परेशानी में  लोग उन्ही का जाप करते है करते हैं  उन्होंने उनके चित्रित माला धारण किये है तो उन्हें बार बार चूमते भी है। उनका आकर्षक चित्र उनके भक्तो के बीच बेहद लोकप्रिय हैं।


आशा है की आप सभी को यह पोस्ट पसंद  आया होगा। इस पोस्ट को शेयर जरूर करें। 

कोई भी सुझाव या नए धार्मिक कहानिया आप नीचे कमेंट में बता सकते है।हम उन्हें अपने वेबसाइट में पब्लिश करने की कोशिश  करेंगे। 


जय श्री राम ** जय  हनुमान 


नारायण कवच | नारायण कवच का महत्व


Post a Comment

0 Comments