About Me

Please visit our Download Section.
Please visit our Download Section.

About Hanuman Ji | Who is Lord Hanuman

 भगवान हनुमान जी का परिचय 

भगवान हनुमान सबसे महत्वपूर्ण देवताओं में से एक हैं जिनकी हिंदू धर्म में पूजा की जाती है। भगवान हनुमान सबसे लोकप्रिय रूप से भगवान राम के एक उत्साही भक्त के रूप में जाने जाते हैं और वे हिंदू महाकाव्य रामायण के एक केंद्रीय व्यक्ति हैं । वह चिरंजीवी (ओं) यानी अमर जीवों में से एक हैं जिन्हें पृथ्वी पर हमेशा के लिए जीवित रहना है।

भगवान हनुमान जी कैसे दीखते थे ?

रामायण में कई जगहों पर हनुमान जी को "वानर" के रूप में भी संबोधित किया गया है - सामान्य तौर पर, हम मानते हैं कि "वानर" शब्द का अर्थ बंदर है। लेकिन अगर हम इस शब्द का विश्लेषण करें, तो "वानर" शब्द का अर्थ है जो खाता है जंगल में उत्पादित भोजन अर्थात वन में रहने  वाला नर । उदाहरण के लिए, जो लोग पहाड़ यानि गिरि में रहते हैं और वहां भोजन करते हैं उन्हें गिरिजन कहा जाता है। इसी प्रकार वनवासी को वानर कहा जाता है। वानर शब्द किसी विशेष प्रजाति, जाति, प्रजाति या उपजाति को नहीं दर्शाता है।हनुमान जी दिखने में वानर के समान हैं। उन्हें लाल रंग और वानर के समान एक मुड़ी हुई पूंछ में चित्रित किया गया है । उन्हें एक गदा यानी गदा के साथ चित्रित किया गया है ।

भगवान हनुमान

भगवान हनुमान हिन्दू धर्म में सबसे ज्यादा और सभी प्रिय है । बच्चो की आस्था इनके प्रति एक अलग स्थान रखती है। अगर कोई बन्दर रास्ते में दिख जाए तो लोग उन्हें हनुमान कह के सम्बोधित करते है। अकसर मंदिरो में इन्हे देखा जा सकता है। भगवान हनुमान को आजीवन ब्रह्मचारी माना जाता है । ऐसा माना जाता है कि उन्होंने जीवन भर ब्रह्मचारी रहने और भगवान राम के प्रबल भक्त बने रहने का संकल्प लिया है। इसलिए, भगवान हनुमान उन लोगों के लिए सबसे महत्वपूर्ण देवता हैं जिन्होंने विशेष रूप से पुरुष भक्तों के बीच ब्रह्मचर्य का व्रत लिया है।

भगवान हनुमान को इन रूप में भी जाना जाता है महावीर , बजरंग बली , (आञ्जनेय), पवन पुत्र , अंजनी पुत्र , केसरी नंदन और मारुति (मारुति)।

हनुमान जी का जन्म समय

ऐसा माना जाता है कि भगवान हनुमान का जन्म चैत्र पूर्णिमा के दौरान सप्ताह के मंगलवार के दौरान सूर्योदय के बाद हुआ था । उनका जन्म चित्रा नक्षत्र और मेष लग्न के दौरान हुआ था।

भगवान हनुमान जी का परिवार परिचय 

भगवान हनुमान माता अंजना और केसरी के पुत्र हैं । उन्हें वायु देव यानी पवन देवता के पुत्र के रूप में भी वर्णित किया गया है।

भगवान हनुमान आजीवन ब्रह्मचारी हैं। भगवान हनुमान ने अपना जीवन भगवान राम की सेवा में समर्पित कर दिया और उन्होंने कभी शादी नहीं की।

हनुमान जी से सम्बंधित त्यौहार 

1.महावीर जयंती 

2.रामनवमी 

हनुमान जी के पाठ 

1 .श्री हनुमान चालीसा 

2. श्री बजरंग बाण 

3. संकट मोचन हनुमानाष्टक

Post a Comment

0 Comments