About Me

Please visit our Download Section.
Please visit our Download Section.

Ketu Mantra Benefits | Ketu Mantra | केतु मंत्र के लाभ

केतु मंत्र का जाप से बहुत परेशानियों का हल निकल जाता है। जो लोग केतु के महा दशा से  गुजरते  वो लोग इस के जाप से बहुत लाभवंतित होते हैं। 
केतु को आमतौर पर छाया ग्रह कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि इसका मानव जीवन और पूरी सृष्टि पर भी जबरदस्त प्रभाव पड़ता है।

Contents of the Article

1. Benefits of Ketu Mantra

2. Ketu Mantra

3. Ketu Mantra In English

कुछ विशेष परिस्थितियों में, यह किसी को प्रसिद्धि के शिखर को प्राप्त करने में मदद करता है।

केतु को अक्सर उसके सिर पर एक रत्न या तारे के साथ चित्रित किया जाता है जो एक रहस्य प्रकाश का प्रतीक है। केतु मूल रूप से वैराग्य, आध्यात्मिकता, ज्ञानोदय का प्रतिनिधित्व करता है, जो हम चाहते हैं उसे छोड़ देते हैं।

केतु एक आधा ग्रह है जो ज्ञान, विवेक की शक्ति और आध्यात्मिक ज्ञान प्रदान करता है। यह अपने मूल निवासियों को मानसिक क्षमता देता है और उन्हें कला, तंत्र और गुप्त विज्ञान का स्वामी बनाता है। 

Benefits of Ketu Mantra | केतु मंत्र के लाभ

केतु मंत्र हमेशा उन व्यक्तियों के लिए अनुशंसित किया जाता है, जो केतु की प्रतिकूल दशा से गुजर रहे हैं।
केतु मंत्र गूढ़ ज्ञान, अलगाव, मनोविज्ञान और आश्रमों में रुचि बढ़ाता है।
यह केतु मंत्र कुंडली में केतु ग्रह के सभी अशुभ प्रभावों को दूर करता है।
केतु मंत्र प्रसिद्धि और साहस प्रदान करता है।
मंत्र चर्म रोग और हादसों को दूर करता है।
मंत्र आपको अचानक धन और सफलता प्रदान कर सकता है।
केतु की महादशा के दौरान, व्यक्ति को अपने संबंधों, भौतिक धन, प्रतिष्ठा की हानि और प्रतिष्ठा में अचानक गिरावट का अनुभव होता है; केतु मंत्र उसे आसानी से ठीक करने में मदद करता है।
कुछ विशेष परिस्थितियों में, केतु मंत्र किसी को प्रसिद्धि के शिखर को प्राप्त करने में मदद करता है।
केतु मंत्र ज्ञान, विवेक की शक्ति और आध्यात्मिक ज्ञान प्रदान करता है।
केतु मंत्र तंत्र और गुप्त विज्ञान पर महारत हासिल करने में मदद करता है।
केतु ग्रह का शुभ प्रभाव प्राप्त करने के लिए केतु मंत्र का प्रतिदिन 108 बार जाप करना चाहिए।

Ketu Mantra

ॐ पद्म-पुत्राय विदमहे अमृतेशाय धीमहि तन्नो केतुः प्रचोदयात्॥

Om Padma Putraya Vidmahe Amriteshaay Dheemahi Tanno Ketu Prachodayat

ॐ गद्दाह्स्ताय विद्महे अमृतेशाय धीमहि तन्न: केतु: प्रचोदयात

Om Gaddahstaay Vidhmahe Amrateshaay Dheemahi Tannho Ketu Prachodyat

ॐ अश्वाध्वजाय विद्महे शूलाहस्ताय धीमहि तन्नो केतु: प्रचोदयात
Om Aswadhwajaaya Vidmahae Shoola Hastaaya Dheemahi Tanno Ketu Prachodayaat

Ketu Beej Mantra

ॐ स्रां स्रीं स्रौं सः केतवे नमः॥
Om Sraam Sreem Sraum Sah: Ketwe Namah:

समुद्र मंथन के दौरान देवताओं की कतार में लगकर चालाकी से एक राक्षस ने अमृत पान कर लिया था। इस पर भगवान विष्णु ने चक्र से उसका सर धड़ से अलग कर दिया. इससे राहु केतु नामक दो ग्रह निर्माण हुए। इन ग्रहों में राहु सिर वाले और केतु धड़ वाले हिस्से निर्मित ग्रह हैं। 

केतु के पास सिर नहीं होने से उससे संबंधित परेशानियों को पहचान पाना किसी भी व्यक्ति के अत्यंत कठिन होता है।  
यदि आप किसी रोग के शिकार हैं तो चिकित्सक के लिए रोग जान पाना कठिन होता है। अन्य आर्थिक व सामाजिक संकट में भी केतु के प्रभाव से हल तक पहुंचना कठिन होता है।  

उदाहरण स्वरूप जंगल में यदि कोई व्यक्ति दलदल में फंस जाए तो वह धीरे-धीरे उसमें फंसता चला जाता है। वह जितना प्रयास करता है उतना उलझता है।  इसके विपरीत वह शांत मन से समस्या पर विचार कर किसी बाहरी सहयोग से सहजता से दलदल से बाहर आ सकता है। केतु जीवन में ऐसे ही संकटों का संकेतक है।  

इन संकटों से मुक्ति के लिए केतु के इस मंत्र का जाप करते ध्यानस्थ हों। धूम्राद्विबाहवः सर्वेगदिनो विकृतानना। गृध्रागसनगतानित्यं केतवः स्यूर्ववरप्रदाः।। केतु को छाया ग्रह माना जाता है. इस मंत्र का जाप करने से अंधेरे से डरने वाले लोगों को डर से मुक्ति मिलती है।जिन जातकों की कुंडली में केतु से बना ग्रहण दोष होता उसे अवश्य ही इस मंत्र से केतु का ध्यान करना चाहिए। 

ketu mantra benefits


Ketu Mantra In English


Ketu Beej Mantra is

 “Om Stram Streem Straum Sah Ketve Namah”


Ketu Gayatri Mantra is

 “Om ketave namah” and ”Om Kem Ketave Namah”

Ketu Navagraha Stotra is 

“Palasha Pushpa Sankaasham Taraka Graha Mastakam Roudram Roudratmakam Ghoram Tam Ketum Pranamamyaham”.


Related Articles





Post a Comment

0 Comments